Categories
Patriotism

संगठित आर्य/हिन्दू, मज़बूत हिन्दुस्तान

मंगोलिआ और तिब्बत। एक देश और एक तत्कालीन भारतवर्ष की ज़मीन का एक हिस्सा। लगभग एक ही आकर और आबादी के। एक जिसने दुनिया को जीता और एक जिसे चीन ने हड़प लिया और बर्बाद कर दिया।

भरकस कोशिशों के बावजूद चीन मंगोलिआ पर कब्ज़ा ना कर सका और तिब्बत को उसने बेहद ही आसानी से अपना गुलाम बना लिया।

वजह?

वजह सिर्फ एक।

मंगोलिआ का हर मंगोल लोहे की तरह एक और मज़बूत है और तिब्बत का हर हिन्दू/सिख/बौद्ध/जैन (तिब्बती ) सूत के धागे की तरह तार तार है अलग थलग है।

हिन्दू (हिन्दू/सिख/बौद्ध/जैन) और हिन्दुस्तान के पतन का गुलामी का एक ही कारण रहा है और वो है हिन्दुओं का एक और मज़बूत ना होना। हिन्दू कभी एक ना हो पायें, उसमे चार चाँद लगाती हैं आज के हिंदुस्तान में क़ायम संविधान की ४ धाराएं।

धारा १५, धारा १६, धारा ३५, और धारा ३७०

सब जानते हैं ये धाराएं क्या हैं और किस तरह से खासकर हिन्दुओं को आज भी दुनिया का गुलाम बनायें हुए हैं।

भाई को भाई से लड़ाने की, बाप को बेटे से जुदा करने की, हिन्दू और हिन्दुस्तान को आजीवन दुनिया का गुलाम बनाने की और धीरे धीरे हिन्दुस्तान के हिन्दू को जड़ से मिटाने की साज़िश का काला सच हैं ये धाराएं।

हिन्दू समाज का कभी उत्थान ना हो सके और भारत भी समय के साथ मुसलमान और ईसाईओं की जागीर हो जाये, इसी को पुख्ता करने का साजो-सामान है ये ४ धाराएं।

एक मंगोल को मारो, वो १०० को मारेंगे, आप १०० हिन्दू को मारो एक भी पलटवार नही होगा।

हिन्दू के मनोबल को चूर चूर करने वाले इस सविंधानऔर इसकी धाराओं का जवाब नही।

जब तक हर हिन्दू अपने हर भेद-भाव जात-पात को मिटा कर एक नही होगा, वो सिर्फ मिटाया जायेगा।

मैं जाट, मैं गुर्जर, मैं पंडित, मैं तेली, मैं कायस्थ, मैं यादव, मैं राजपूत, मैं मराठा, जब तक यही गाना बजता रहेगा और हिन्दू इसी धुन पर नाचता रहेगा, तब तक विदेशी आ-आ कर उसे लूट कर, मार कर, बर्बाद करके उसका घर जलाते रहेंगे, उसकी हस्ती मिटते रहेंगे।

ये भेद-भाव की धुन जिस पर हर हिन्दू नाचता चला आ रहा है उसे डरपोक, भीरु, नपुंसक और मूर्ख बना रही है और नाग के ज़हर की तरह हमारे वजूद में फैलकर हमें चलता-फिरता कंकाल बना रही है।

मिटा दो हर उस वजह को जो हिन्दू को हिन्दू से दूर करती है, उन्हें अलग करती है, उन्हें कमज़ोर बनाती है।

एक हो जाओ और फिर वही आर्य बन कर राज करो जिन आर्यों का ख़ून तुम्हारी रगों में दौड़ रहा है।

भारत को फिर से एक भारतवर्ष, आर्यावर्त सिर्फ संगठित और मजबूत आर्य /हिन्दू ही बना सकता है, कायर, डरपोक, फूट और भेद भाव की धुन पर नाचता बावला नही।

जय हिन्द जय भारत जय महाकाल हर-हर महादेव

#hindu #hindustan #aarya #ektaa #bharat #mazboot #religion #nationality #freedom

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *